Hindi Sex Kahani

Antarvasna Kamukta

मेरी अन्तर्वासना

हेल्लो मेरे प्यारे दोस्तों कैसे हैं आप सब आज मैं भीम आपके सामने एक मस्त कहानी लेके आया हूँ जहाँ मैं आपको बताऊंगा कैसे मैंने एक रंडी को अपने साथ चुदने के लिए तैयार किया वो भी बिना पैसे दिए | मैं शुरू से ही बड़े ही चुदक्कड किस्म का लड़का रहा हूँ और मैंने अपनी चाची को भी चोदा है क्यूंकि चाचा का देहांत हो गया था | तो आज मैं आपको ये सब बताने जा रहा हूँ और मैंने आपके लिए ये दोनों चीज़ें पहले से ही सोचके रखी हैं |

दोस्तों वो क्या हैं मैं पहले कभी किसी से ऐसी बातें नहीं करता था पर जब से मैंने इतनी चुदाई कि तबसे मैं अन्दर चाहता था कि लोगों को भी पता चले और उन्हले इस बात का एहसास हो जाए कि चुदाई में कितना मज़ा आता है | मैंने वैसे तो ये चीज़ें कई बार देखि हैं पर अब चाची मेरी जिंदगी में नहीं रही तो क्या फायदा बताके | शादी की उम्र है नहीं और रंडी के अलावा दूसरा कोई सहारा नहीं इसलिए मैंने सोचा चलो ये भी आजमा के देख लेता हूँ | मैंने अब आपको बहुत पका लिया अब मैं अपनी कहानी शुरू करता हूँ और आपको बताता हूँ कि कैसे चुदाई सम्पान हुई मेरी जिंदगी में |

दोस्तों ये बात 2 साल पहले की है जब मैं स्कूल में था | हाँ क्यूंकि अब मैं कॉलेज में हूँ और 22 साल का हूँ पर तब मैं बस 20 साल का था | मैं और मेरे चाचा बहुत ही अच्छे से घुले मिले हुए थे और उनके बच्चे भी नहीं थे | तो कहीं भी आना जाना होता था तो चाचा मुझे ले जाते | चाची भी मेरी मस्त माल हैं पर अब पता नहीं क्यूंकि वो अब मायके में रहती है | मेरी चाची के दूध एकदम कड़क और मस्त गोल गोल थे और कमर तो एकदम चिकनी | गांड तो इतनी भरी थी कि कोई भी उसपे फ़िदा हो जाए | मैंने अपनी चाची को कभी गलत नज़रों से नहीं देखा था पर उस दिन जब उनके दूध के दर्शन हुए तब मैं फिसल गया |

दोस्तों एक दिन कि बात है चाचा और चाची कही जा रहे थे और पापा कि कार लेके गए हुए थे | शायद किसी शादी में जाना था उनको | अब चाचा की एक सबसे गन्दी आदत ये थी कि वो गाड़ी बड़ी तेज़ चलाते थे | मैंने कई बार उनको मन किया था और पापा भी चिल्लाते रहते थे पर वो किसी कि भी नहीं सुनते थे | उस दिन उनका एक्सीडेंट हो गया और चाचा तो वहीँ ख़तम हो गए पर चाची बाख गयी | हमने उनको ये बात नहीं बतायी थी कि ऐसा कुछ हुआ है पर वो हमारे चेहरे को देख के समझ गयी और फूट फूट के रोने लगी | मैंने उनको गले से लगा लिया और समझाने लगा | फिर कुछ दिन बाद उनको घर ले आये और वो ठीक से चल नहीं पाती थी तो मैं उनको पकड़ के चलाता था |
यह कहानी भी पढ़े : मेरे सुसु के पानी से दीदी झड़ गयी

READ  दादा जी का तगड़ा लंड 1

मैं उस समय तक बिलकुल शरीफ था पर कई बार उनको उठाते हुए मेरे हाथ उनके दूध पे लग जाते थे और मेरा लंड खड़ा हो जाता था | मैंने अब जानबूझ के चाची के दूध दबाना शुर कर दिया था | पर मैं ही उनका ध्यान रखता था उनको खाना खिलाना और उनको बाथरूम के अन्दर तक ले जाना | एक दिन चाची बाथरूम गयी और बाई थोड़ी देर से आने वाली थी जो अन्दर उनके साथ रहती थी तो मैं चाची को वही बैठा के बहार आया और वो अपने कपडे उतारने लगी |

मैंने झाँक के देखा तो क्या बदन था चाची का | मैंने मन बना लिया कि उनको चोदना है | जब वो फुर्सत हो गयी वहां से तो मैं उनको कमरे में लाया और खाना खिलाने लगा | थोड़ी देर बाद मैंने उनको सुलाने कि कोशिश की तो वो मुझे पकड़ के गले लगाने लगी और रोने लगी | मेरे दोनों हाथ उनके दूध पे थे और मैं उनको दबा रहा था और उनको समझा रहा था चाची शांत हो जाइये | उन्होंने कहा अब क्या होगा मैं कैसे शांत करुँगी खुदको अपने बदन के गर्मी को |

मैं समझ गया कि इनको लंड चाहिए हैं मैंने उनको पकड़ा और उनको किस करने लगा और वो मुझे पीछे करने लगी | मैं किस करने के बाद हटा और कहा चाची मैं बुझाऊंगा आपकी प्यास और फिर से उनको पकड़ के किस करने लगा और वो मेरा साथ देने लगी | थोड़ी देर बाद मैंने उनके कपडे उतारे और उनके दूध को दबाते हुए उनको किस करने लगा | फिर मैं नीचे हुआ और उनके दूध को पीने लगा |

READ  दीदी को बॉयफ्रेंड से चुदवाते देखा फिर

उसके बाद क्या था चाची भी गरम होने लगी और मैंने जोर जोर से उनके निप्पल चूसने लगा | वो थोड़ी देर बाद आआहाआह ऊउन्न्अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी |

उसके बाद मैंने चाची के पेट को चाटा और उनकी गांड को चाट के उनकी चूत की तरफ आ गया | चाची की चूत गुलाबी थी और मैंने उसको इतना चाटा कि वो तीन बार मेरे मुह में ही झड़ गयी | वो बस आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआ ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | फिर मैंने अपना लंड बहार निकाला और सीधा चाची के मुह के अन्दर डाल दिया और वो उसको चूसने लगी |
यह कहानी भी पढ़े : टीचर के साथ धकाधक चुदाई

चाची ने इतने मस्त से मेरा लंड चूसा कि मैं बस आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करता रहा और झड़ गया |

फिर मैंने उनकी चूत में अपना लंड डाला और कस के अन्दर घुसेड दिया और वो चिल्लाने लगी | मैंने उनको आधे घंटे तक चोदा और खूब प्यार से उनकी गांड को भी बजाया | मैंने उस दिन उनको चार बार चोदा और फिर अपने गले से लगा के लेट गया | उन्होंने कहा तुम अब हर वक़्त मेरी प्यास बुझाते रहना | मैंने भी कहा ठीक है चाची अब से मेरा लंड आपका गुलाम बन गया है |

मैं अब हर दिन चाची को चोदता और उनको मज़े देता रहता चाची भी इसका खूब फायदा उठाने लगी | फिर एक दिन उनके माँ बाप उन्हें घर ले गए और वो कभी वापस नहीं आई | मेरा लंड अब चूत के लिए तरसने लगा | मुझे एक रंडी मिल गयी और वो मेरे कॉलेज में ही पढ़ती थी | दिखने में एकदम माल थी पर वो साली पैसा बहुत लेटी थी और बहुत बड़े बड़े लोगों से चुद्वाती रहती थी |

READ  बहन की आँख खुली तो लंड दिखा

मैंने एक दिन उसको देखा कि वो कॉलेज के प्रोफेसर से चुदवा रही है और मैंने चुपके से विडियो बना लिया | फिर चुदाई होने के बाद मैं उसके पास गया और कहा सर अब मुझे भी दिलवा दो नहीं तो ये विडियो वायरल हो जाएगा | उसने कहा ठीक है चोद लो इसको | मैंने कहा मैं इसको जब चहुँ तब चोदुंगा और पैसे आप दोगे नहीं तो समझ लेना | उसने कहा ठीक है और मैं उसकी के सामने नंगा हुआ और अपना बड़ा लंड पेल दिया उसकी चूत में | वो एक दम से चिल्ला पड़ी और आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी | चुदाई के वक़्त बोलने लगी क्या मस्त लंड है ऐसा लंड पहली बार मिला है |

फिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसकी गांड में लंड डाला तो साली की गांड भी ढीली थी | पर मैंने चोदा और वो अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ करने लगी | उसके बाद मैंने अपना लंड उसके मुह में दिया और कहा चूस मादरचोद रंडी | वो मेरा लंड चूसने लगी और मैं आआहाआह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहा करने लगा | थोड़ी देर बाद मेरा माल निकल गया और मेरा साल माल उसने बहार थूक दिया | अब मुझे फ्री में चूत भी मिल रही थी पर चाची की याद मुझे आज भी आती हैं और मैं उनके मायके जाने वाला हूँ |

Hindi Sex Kahani © 2015